Monday, May 16, 2022
HomeTrendingअजीत पवार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल की शिवाजी की टिप्पणी पर प्रधानमंत्री...

अजीत पवार ने महाराष्ट्र के राज्यपाल की शिवाजी की टिप्पणी पर प्रधानमंत्री का ध्यान खींचा | भारत समाचार

पुणे: डिप्टी सीएम अजीत पवार ने बिना किसी का नाम लिए पीएम नरेंद्र मोदी और राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी की मौजूदगी में कहा कि “महत्वपूर्ण सार्वजनिक पद पर बैठे लोगों द्वारा देर से की गई अनावश्यक टिप्पणी स्वीकार्य नहीं है”।
पवार की टिप्पणी छत्रपति शिवाजी महाराज और संत रामदास स्वामी के संबंध में कोश्यारी की हालिया टिप्पणियों पर चल रहे विवाद की पृष्ठभूमि में आई है। इसने एनसीपी, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों की आलोचना की है और केंद्र सरकार को कोश्यारी को वापस बुलाने की मांग की है।
पवार ने कहा, ‘छत्रपति शिवाजी महाराज और जीजाबाई ने स्वराज की स्थापना की। सुधारवादी महात्मा ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले ने महिला शिक्षा की नींव रखी… हमें विकास कार्यों में कोई राजनीति लाए बिना इस परंपरा को जारी रखने की जरूरत है। इससे पहले कांग्रेस और राकांपा कार्यकर्ताओं ने विरोध किया और नारेबाजी की। शहर कांग्रेस के प्रमुख रमेश बागवे ने कहा, “हमारा विरोध संसद में पीएम की हालिया टिप्पणी के उद्देश्य से है, जिसमें देश में कोविड -19 के प्रसार के लिए महाराष्ट्र को दोषी ठहराया गया है।”
कांग्रेस ने विशेष रूप से पीएम के लिए बनाए गए ‘फेटा’ (हेडगियर) पर भी आपत्ति जताई और उसी पर राजमुद्रा (छत्रपति शिवाजी महाराज द्वारा अध्यादेश जारी करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली शाही मुहर) को प्रदर्शित किया। आपत्ति के बाद सिंबल को हेडगियर से हटा दिया गया। शहर में पोस्टर वार भी देखने को मिला। भाजपा ने मेट्रो रेल परियोजना सहित विकास कार्यों के श्रेय का दावा करने वाले पोस्टर लगाए। विपक्षी दलों ने पोस्टरों के माध्यम से इसका जवाब दिया कि यह आयोजन एक पब्लिसिटी स्टंट था।

.


Source link

Adminhttps://studentcafe.in/
Feel Free to ask anything...
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments